फिशिंग हमला क्या होता है?

फिशिंग हमला क्या होता है?

फ़िशिंग हमला तकनीकी दुनिया में बेवकूफ बनाकर झाँसे में लेने का एक तरीका है जिसके अंतर्गत  कपटपूर्ण/नकली/धोखे/जालसाजी से भरपूर संचार/सन्देश भेजे जाते हैं, जो कि किसी अजनबी स्रोत से आते हैं, कई बार ये प्रतिष्ठित स्रोत से भी आते हैं। यह आमतौर पर ईमेल/सन्देश/व्हाट्सप्प सन्देश के माध्यम से किया जाता है। जिनका लक्ष्य संवेदनशील डेटा जैसे क्रेडिट/डेबिट कार्ड की जानकारी चुराना, इंटरनेट बैंकिंग यूजरनेम-पासवर्ड चुराना और निजी सूचनाओं को चुराना या हमारे कंप्यूटर या मोबाइल पर मैलवेयर स्थापित करना होता है। फ़िशिंग एक सामान्य प्रकार का साइबर-हमला है जिससे हर किसी को स्वयं को बचाना सीखना चाहिए।

फिशिंग हमला कैसे काम करता है?

फ़िशिंग हमला करने वाला ईमेल/व्हाट्सप्प/सन्देश के जरिये हमसे संपर्क करता है जो कि हमें यानि उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह संदेश देखने में बिलकुल असली लगता है और ऐसा लगता है कि यह एक विश्वसनीय प्रेषक से आया है, जिसे हमें बेवकूफ बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यदि हम बेवकूफ बन जाते हैं, तो सन्देश भेजने वाला हमारी गोपनीय जानकारी चुरा लेता है, कई बार हमारे खाते से रुपये भी चोरी हो जाते हैं। कभी-कभी हमारे कंप्यूटर पर मैलवेयर/वायरस भी डाउनलोड हो जाता है।
नीचे कुछ स्क्रीनशॉट दिए गए हैं, जिन्हे देखकर आप समझ सकते हैं, कैसे सन्देश हमें मिलते हैं जो को फिशिंग हमले के लिए बनाये गए हैं। 






Post a Comment

और नया पुराने